DEVOTIONAL VIDEOS


    Aarti
  1. Shiv Aarti
  2. Krishna Aarti
  3. Aarti Kunj Bihari Ki
  4. Sai Baba Aarti
  5. Ram Ji Ki Aarti
  6. Hanuman ji ki Aarti
  7. Gayatri Mata ki Aarti
  8. Ganesh Ji Ki Aarti
  9. Durga Ji ki Aarti
  10. Durga Aarti
  11. Ravindra Jain Ji
  12. Musical Ramayan (Ravidnra Jain)
  13. Bijender Chauhan Ji
  14. Durga Aarti
  15. Hanuman Chalisa
  16. Ramayan Aarti
  17. Dhar Lo Nishan Kandhey
  18. Durga Saptashati
  19. Hanuman Chalisa
  20. Mool Sunder Kand Path (Avdhi)
  21. Ram Charit Manas (Hindi)
  22. Ram Charit Manas Musical
  23. Ram Naam Ki Mala
  24. Sundar Kand in Hindi
  25. Sundar Kand in Avdhi
  26. Sai Sajda
  27. Shrimad Bhagwat Geeta (Hindi)
  28. Vinod Aggarwal Ji
  29. Mera Aapki Kripa Se Sab Kaam Ho Raha
  30. Gopal Muralya Wale
  31. Taine Kahan Lagaai Der
  32. Jai Jai Radha Raman Hari Bol
  33. Hum Prem Deewani Hain Wo Prem Deewana Hai
  34. Shree Radhe Gopal Krishna Bhajan
  35. Hey Govind Hey Gopal
  36. Gaurav Krishna Goswami Ji
  37. Kishori Kuch Aisa Intejaam Ho Jaye
  38. Ras Barsane Wari Gaurav Krishna Goswami ji
  39. Arey Hum Kab Honge Brajwasi
  40. Tu Aaja Kaha Hai Mere Shayam Pyare
  41. Mera To Sahara Ek Tu
  42. Mera Dil Diwana Ho Gaya
  43. Koi Shyam Sunder Se Kah Do Ja Ke
  44. Shree Radhe Radhe Barsanewali Radhe - Brij 80 Kos Yatra
  45. Radha Rani Ke Charan Pyare Pyare
  46. Nikunj Kamra Ji
  47. Dikha Do Saawari Surat
  48. Teri Mand Mand Muskaniya Pe Balihar Pyari Ju
  49. Sakhi Ri Baanke Bihari Se Humari Lad Aayi Ankhiyaan
  50. Dikha Do Saawari Surat
  51. Nazar Tohe Lag Jayegi Pyare
  52. Bansi Wale Ke Charno Mein
  53. Jaya Kishori Ji
  54. Bhagat ke Bas Mei Hai Bhagwan
  55. Jagat ke Rang Kya Dekhun
  56. Maa Baap ko tum na Bhulna
  57. Ghani Dur Se Daudiyo
  58. SANKIRTAN - MITHE RAS
  59. SANKIRTAN - AAJA MAN MOHAN
  60. Ek Nazar Krupa Ki kar Do
  61. Baba Ke Mele Mein
  62. Mera Aap Ki Kripa Se Sab Kaam Ho Raha Hai
  63. Jagat ke Rang kay Dekhun tera Deedar kafi hai
  64. Shyam Aaj Meri Naiya
  65. Hum Tumhare Hain Prabhu Ji
  66. Lagan Tumse Laga Baithey
  67. Sampoorna Nani Bai Ro Mayro
  68. Meri Lagi Shyam Sang Preet
  69. Radhe Krishna Radhe Krishna Krishna Krishna Radhe Radhe
  70. Itni Khatri Karwave
  71. O Maa Tu Kitni Achchi Hai
  72. Shrimad Bhagwat Katha - Day 01
  73. Shrimad Bhagwat Katha - Day 02
  74. Shrimad Bhagwat Katha - Day 03
  75. Shrimad Bhagwat Katha - Day 04
  76. Shrimad Bhagwat Katha - Day 05
  77. Shrimad Bhagwat Katha - Day 06
  78. Shrimad Bhagwat Katha - Day 07
  79. Nani Bai Ka Mayara - Day 01
  80. Nani Bai Ka Mayara - Day 02
  81. Nani Bai Ka Mayara - Day 03
  82. Mridul Krishna Shastri Ji
  83. Mujhe Tumne Data Bahut Kuch Diya Hai
  84. Mohe Bhaave Bihari ji ko Naam
  85. Mujhe Tumne Data Bahut Kuch Diya Hai
  86. Badi Door Nagri
  87. Madhurashtakam
  88. Devki Nandan Thakur Ji
  89. Srimad Bhagwat Katha - Day 01
  90. Srimad Bhagwat Katha - Day 02
  91. Srimad Bhagwat Katha - Day 03
  92. Srimad Bhagwat Katha - Day 04
  93. Srimad Bhagwat Katha - Day 05
  94. Srimad Bhagwat Katha - Day 06
  95. Srimad Bhagwat Katha - Day 07
  96. Krishna Chandra Shastri Ji
  97. अधरम मधुरम वदनम मधुरम
  98. Chata Teri Teen Lok Se Nyari
  99. Saras Kishori - सरस किशोरी
  100. ओम नमो भगवते - Om Namo Bhagwate
  101. Teri Ankhiyan Hain Jadubhari
  102. Radha Ka Naam Anmol
  103. Manoj Sharma Ji
  104. Bhagat Ke Vash Me Hain Bhagwan
  105. Extra Videos
  106. Indian Jagran Dance
  107. Jagran Dance
  108. Krishna Dance at Jagran
  109. Peacock Dance in Jagran
 

About Jaya Kishori ji

     
           
     
India’s Rich Heritage comprising of the beautiful festive culturally enriched state of Rajasthan, the birth place of Bhakt Shiromani Meera Bai, a devotee of Lord Krishna. “Pujya Jaya KishoriJi” – A disciple, born in Brahmin family- blessed by Lord Krishna to “Pujya Radhe Shyam Ji Haritpal” and “Pujya Geeta Devi Haritpal” in her ancestral village of Rajasthan.

The love, stories, and compassionate teachings of Dadaji and Dadiji about Lord Krishna, developed extreme dedication and devotion towards Lord Krishna and developed a magnetic feeling to dedicate her life towards Bhakti of Radhe Krishna. She being a keen learner of the teaching of “Bhagwad Gita” left worldy pleasures and materialistic mind-set at a tender age of five(5 years) to completely and dedicatedly evolve in the learning and preaching of the highest spiritual writings of Shri Shyam Charit Maanas, Shri Krishna Leela, Shri Rani Sati Dadi Charitrya, Nani Bairo Mayro. Apart from this she is also a regular student of “Mahadevi Birla World Academy” Kolkata.

She has been able to spread her teachings by events and programs to all communities and countries worldwide. Her most popular and impactful events has been preaching of “NaniBairoMayro” – more fully description by her, the devotion of Bhakt Narsingh Mehta, towards Lord Krishna, which compelled Lord Krishna to participate in NaniBairoMayro for his devotee.

Her appeal, support and efforts towards stopping female foeticide in all parts of India, support girl child, revive cultural respect towards parents and elderly people, arrange support for physically handicapped persons.

पूज्या जया "किशोरीजी" का संक्षिप्त परिचय

बालव्यास राधास्वरुपा पूज्या जया "किशोरीजी" का जन्म राजस्थान की मरुधर पावन भूमि के सुजानगढ़ नामक गॉव में गौड़ ब्राह्मण परिवार में हुआ। दादाजी एवं दादीजी के सानिध्य में रहने और घर में भक्ति का माहौल रहने के कारण बचपन में ही मात्र 6 वर्ष की अल्पआयु में ही आपके हृदय में भगवान श्री कृष्ण के प्रति प्रेमभाव जागृत हो गया।

बचपन में दादाजी एवं दादीजी के द्वारा भगवान की करुणा, उदारता और भक्त के प्रति अनन्य प्रेम से जुड़ी कहानियां सुनकर आपके मासूम और निश्चल कोमल हृदय में भगवान के प्रति दृढ़ विश्वास बढ़ता चला गया और यही प्रेमभाव, भक्तिभाव 6 वर्ष की छोटी बालिका जया "किशोरीजी" के मुखारबिन्द से ऐसा उमड़ा, जिसने भजनों के माध्यम से जन-जन के हृदय को बहुत ही गहराई से छुआ। मात्र 9 वर्ष की अल्पआयु में ही आपने संस्कृत में लिंगाष्टकम्, शिव-तांडव स्तोत्रम्, रामाष्टकम्, मधुराष्टकम्, श्रीरुद्राष्टकम्, शिवपंचाक्षर स्तोत्रम्, दारिद्रय दहन शिव स्तोत्रम् आदि कई स्तोत्रों को गाकर जन-जन का मन मोह लिया। 10 वर्ष की अल्प आयु में ही आपने अमोघफलदायी सम्पूर्ण सुन्दरकाण्ड गाकर लाखों भक्तों के मन में अपना एक विशेष स्थान बना लिया।

बचपन से ही परम पूज्य गोलोकवासी स्वामी श्री रामसुखदासजी महाराज की वाणी से अत्यधिक प्रभावित होकर उनकी वाणी को ही आपने अपना गुरु स्वीकार कर लिया और उनके द्वारा गाये गये "नानी बाई रो मायरो" को अपनी मातृभाषा मारवाड़ी (राजस्थानी) भाषा में तैयार किया और फिर इसे जन-जन के हृदय तक पहुंचाया। आपके प्रारम्भिक गुरु राधारानी के अनन्य भक्त बैकुण्ठनाथ जी मंदिर वाले गुरुदेव पं. श्री गोविन्दरामजी मिश्र ने श्रीकृष्ण के प्रति आपके असीम प्रेम भाव को देखते हुए आपको "किशोरीजी" की उपाधि आशीर्वाद स्वरुप दी लेकिन ज्यादा दिनों तक आपको उनका सानिध्य प्राप्त नहीं हो सका। आपके तात्कालिन गुरु भागवताचार्य ज्योतिषाचार्य गुरुदेव पं. श्री विनोदकुमारजी सहल हैं, जिनसे आप श्रीमद् भागवत ज्ञान महायज्ञ की शिक्षा ग्रहण कर रही हैं।

आपका रहन-सहन प्रायः एक साधारण बालिका की तरह ही रहा है। धर्म के साथ-साथ ज्ञान का भी पूरा सहयोग बना रहे, इसलिये आपने अपनी स्कूली शिक्षा भी जारी रखी है। कोलकाता के अति प्रतिष्ठित स्कूल महादेवी बिड़ला वर्ल्ड ऐकेडमी में आप बॉरहवीं कक्षा की छात्रा हैं। आपकी ओर से धर्म के साथ-साथ सेवा का कार्य भी होता रहे, समाज के पिछड़े दीन-हीन असहाय विकलांग बच्चों को सहारा मिल सके और उनके मन से हीन भावना निकल सकें, इस विचार से आपने अपनी सम्पूर्ण कथा इन बच्चों के निःशुल्क आपरेशन, भोजन व शिक्षा हेतु समर्पित कर दी है। कथाओं से आने वाली समस्त दान राशि आप नारायण सेवा ट्रस्ट, उदयपुर राजस्थान को दान करती हैं, जिससे विकलांग-विवाह को प्रोत्साहन मिलने के साथ-साथ उन्हें रोजगार और समाज में सर उठाकर जीवन यापन करने का साहस मिलता है।

आप भ्रूण हत्या को सबसे जघन्य अपराध मानती हैं और अपनी कथा में सभी लोगों से प्रार्थना करती हैं कि ऐसा जघन्य अपराध न करें। वृद्ध आश्रमों की बढ़ती हुई संख्या को देखते हुए आप इसे समाज के पतन का कारण मानती हैं। गो-हत्या का आप सख्ती से विरोध करती हैं। आप अपने प्रवचनों में इन सभी बातों पर विशेष जोर देते हुये भावुक हो उठती हैं। 6 वर्ष की उम्र से भक्ति के सफर की शुरुआत करके आज आप 16 वर्ष की अल्प आयु में अपनी कथाओं और प्रवचनों के माध्यम से हजारों दीन-हीन व असहाय विकलांग बच्चों के जीवन को एक नई दिशा दे रही हैं।

।। कलियुग केवल नाम आधारा ।। सुमिर-सुमिर नर उतरहिं पारा।।

इस लोकोक्ति के आधार पर आप भविष्य में भी यही चाहती हैं कि ठाकुरजी का नाम सदैव आपके मुख से निकलता रहे। ठाकुरजी की इच्छा को ही सर्वोपरि मानते हुए आप उनके द्वारा दिखाई गई राह पर चलना चाहती हैं। आप खाटुनरेश श्री श्याम बाबा और श्री राणीसती दादीजी की परम भक्त हैं और यही कामना करती हैं कि उनका आशीर्वाद सदैव आपके साथ रहे।

Video Bhajan

  1. Maa Baap ko tum na Bhulna
  2. Ghani Dur Se Daudiyo
  3. SANKIRTAN - MITHE RAS
  4. SANKIRTAN - AAJA MAN MOHAN
  5. Ek Nazar Krupa Ki kar Do
  6. Baba Ke Mele Mein
  7. Mera Aap Ki Kripa Se Sab Kaam Ho Raha Hai
  8. Jagat ke Rang kay Dekhun tera Deedar kafi hai
  9. Shyam Aaj Meri Naiya
  10. Hum Tumhare Hain Prabhu Ji
  11. Lagan Tumse Laga Baithey
  12. Sampoorna Nani Bai Ro Mayro
  13. Shrimad Bhagwat Katha - Day 01
  14. Shrimad Bhagwat Katha - Day 02
  15. Shrimad Bhagwat Katha - Day 03
  16. Shrimad Bhagwat Katha - Day 04
  17. Shrimad Bhagwat Katha - Day 05
  18. Shrimad Bhagwat Katha - Day 06
  19. Shrimad Bhagwat Katha - Day 07
  20. Nani Bai Ka Mayara - Day 01
  21. Nani Bai Ka Mayara - Day 02
  22. Nani Bai Ka Mayara - Day 03

**** Completed ****

SINGERS
OFFERS




All Rights Reserved © 2015 www.bharatbhakti.co.in